TRAYAM-DANCE-AND-CULTURAL-FOUNDATION
त्रिवेणी कला संगम में 'जिज्ञासा' नामक कार्यक्रम में छात्रों ने सीखीं कथक की बारीकियां...
Delhi Top News News

‘जिज्ञासा’ : कथक की बारीकियां सीखने और भारतीय विरासत को सहेजने के लिए जुटे छात्र, गुरु और अभिभावक

नई दिल्‍ली : ‘कथक कहे सो कथा कहलाए…’ यानि कथक शब्द का अर्थ ही कथा को थिरकते हुए कहना है. लिहाज़ा, उत्‍तर भारत की इस प्राचीन नृत्‍य शैली को सीखने एवं इसमें पारंगत होने के साथ कथक में अपने भविष्‍य को संजोय कई छात्र अपने गुरुओं एवं अभिभावकों के साथ बीते सोमवार (28 मई) त्रिवेणी कला संगम में ‘जिज्ञासा’ नामक कार्यक्रम में एकत्र हुए. यहां इन बच्‍चों ने न केवल कथक की बारीकियों को सीखा, बल्कि इसे लाइव परफॉर्म भी किया, जिसे खूब सराहा गया. ‘जिज्ञासा’ का आयोजन किया था त्रयम डांस एंड कल्चरल फाउंडेशन एवं उसकी संस्‍थापक एवं अध्‍यक्षा दीप्ति गुप्‍ता ने.

दीप्ति बताती हैं, ‘रोजाना इस नृत्‍य कला के गुर सीखने वाले इन बच्‍चों द्वारा कथक की भव्‍यता का अपने परिवार, दोस्तों एवं गुरुओं के सामने प्रदर्शन करना वाकई अनूठा अनुभव था.’

TRAYAM-DANCE-AND-CULTURAL-FOUNDATION.-1

हमारी संस्‍कृति के प्रति आज की पीढ़ी में जिज्ञासा है- दीप्ति गुप्‍ता

उनका कहना है कि ‘हमारी संस्‍कृति को लेकर आज की पीढ़ी में जिज्ञासा है. इस पीढ़ी में शास्‍त्रीय नृत्‍य को लेकर काफी सजगता है व उसके प्रति रुझान भी है.’ इस अवसर पर सुप्रसिद्ध गुरु पंडित राजेंद्र गंगानी भी मौजूद रहे, जिन्‍होंने इस प्रयास को खूब सराहा एवं बच्‍चों को कथक की बारीकियों का भी ज्ञान दिया.

TRAYAM-DANCE-AND-CULTURAL-FOUNDATION

दीप्ति गुप्‍ता, जो खुद अंतरराष्‍ट्रीय कलाकार हैं, उन्‍होंने आगे बताया कि ‘इस कार्यक्रम के जरिये बच्‍चों को गुरुओं द्वारा दिखाए गए रास्‍ते के जरिये वे अपने भविष्‍य की राह तलाश पाएंगे. ये छात्र खुद उस स्‍त्रोत को ढूंढेंगे, जो उनके भविष्‍य को मजबूती को पाए. अगर ये नव पल्‍लव मजबूती के साथ बढ़ेंगे तो हमारी विरासत और आगे बढ़ेगी.’

TRAYAM-DANCE-AND-CULTURAL-FOUNDATION

इस अवसर पर आंध्र प्रदेश से सांसद के गीता, श्रम और रोजगार मंत्रालय में न्यूनतम मजदूरी सलाहकार बोर्ड के सदस्‍य आनंद साहू, गृह मंत्रालय में उप सचिव मंजूला सक्सेना के अलावा अन्‍य कई गणमान्‍य लोग भी मौजूद रहे.

आपकी राय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *