Delhi Top News News

बैंक कर्मचारियों की हड़ताल का दूसरा दिन, दिल्लीवालों को हो सकती है कैश की किल्लत

 नई दिल्ली : देशभर में सभी सरकारी बैंक और कुछ प्राइवेट बैंक बुधवार और गुरुवार को हड़ताल पर हैं. जिसके कारण लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. बैंक के सभी कर्मचारी सैलरी बढ़ाने की मांग को लेकर दो दिनों की हड़ताल पर बैठ गए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक करीब 10 लाख बैंक कर्मचारियों ने इस हड़ताल में हिस्सा लिया है. कर्मचारियों ने इस हड़ताल को बुधवार सुबह से शुरू कर दिया है. खबरों के मुताबिक इन सभी बैंकों में जिन लोगों के अकाउंट हैं उन लोगों की सैलरी आने में देरी भी हो सकती है. इसके साथ ही लोगों को एटीएम में पैसे न होने के काऱण भी परेशानी हो सकती है. वहीं आरटीजीएस, नेटबैंकिंग, एनईएफटी की सेवाएं भी नहीं मिल सकेंगी.

आपको बता दें, बुधवार और गुरुवार को पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई), इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक, यूको बैंक समेत पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के सभी बैंकों के अधिकारी-कर्मचारी हड़ताल पर हैं. बताया जा रहा है कि, इस हड़ताल का हिस्सा कुछ एटीएम के सिक्यॉरिटी गार्ड्स भी होंगे.

आपको बता दें, इंडियन बैंक असोसिएशन द्वारा वेतन में बढ़ोतरी की मांग को ठुकरा दिया गया था. मांग को ठुकराने के पीछे खबार आर्थिक स्थिति को माना जा रहा है. बैड लोन को चलते इस साल सरकारी बैंकों को भारी नुकसान हुआ है.

इसके साथ ही वेतन बढ़ोतरी का समर्थन करते हुए यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक्स यूनियन के संयोजक, देविदास तुलजापुरकर ने कहा, ‘एनपीए की वजह से ही बैंकों को इतना घाटा हुआ है. इसके लिए बैंक कर्मचारी जिम्मेदार नहीं हैं. पिछले तीन सालों में बैंक कर्मचारियों ने मुद्रा, जन-धन, नोटबंदी, अटल पेंशन योजना के दौरान काफी काम किया है. इससे वर्कलोड काफी बढ़ा है.’

ऑनलाइन बैकिंग पर पड़ेगा असर

आजकल पैसे का लेन-देन आसान हो गया है क्योंकि हम ऑनलाइन बैकिंग का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन इस हड़ताल की वजह से नेटबैंकिंग, एनईएफटी, आरटीजीएस जैसी सेवाएं नहीं मिलेंगी. इसका सीधा-सीधा असर पड़ेगा ऑनलाइन सुविधाओं पर. एसबीआइ, बैंक ऑफ बडौदा, पीएनबी, इलाहाबाद बैंक, यूको बैंक, यूनियन बैंक सहित पब्लिक व प्राइवेट सेक्टर के बैंक अधिकारी कर्मचारी यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के बैनर तले हड़ताल होगी.

आपकी राय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *