Health Delhi Top News

दिल्ली में मच्छरों का आतंक शुरू, अस्पतालों में बढ़ें डेंगू, मलेरिया के मरीज़

नई दिल्लीः मानसून से पहले ही दिल्ली में मच्छरों का आगमन हो चुका है, चारों तरफ उनका आतंक नज़र आने लगा है. जिसका नतीजा ये है कि राजधानी में मलेरिया, चिकनगुनिया और डेंगू के मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है. इस साल मलेरिया के मरीजों की संख्या में पिछले सालों के मुकाबले इजाफा देखने को मिल सकता है. जिसका उदाहरण हमें बीते एक हफ्ते में ही राजधानी में मलेरिया के 11 नए मरीज सामने आनेे से मिलता हैं. जिसके बाद राजधानी में मलेरिया के कुल मरीजों की संख्या 80 हो गई है. जिनमे से 38 मरीज दूसरे राज्यों से दिल्ली में इलाज करवाने आये हैं और 2 मरीजों का सही पता निगम के पास नहीं है.

वहीं दूसरी तरफ डेंगू की बात की जाए तो इसके कुल मरीजों की संख्या राजधानी दिल्ली में 53 है. बीते एक हफ्ते में राजधानी में डेंगू के 5 नए मामले सामने आए हैं. इन 53 मामलों में से 25 मरीज दूसरे राज्यों से संबंधित हैं. इसके अलावा, चिकनगुनिया की बात करें तो इसके मरीजो की संख्या अभी चिंताजनक नहीं है. चिकनगुनिया के मरीजों की संख्या दिल्ली में 21 है. पिछले एक हफ्ते में चिकनगुनिया का कोई नया मरीज सामने नहीं आया है.

बिमारी के लक्षण –

– ठंड लगने के बाद अचानक तेज बुखार चढ़ना .
– सिर, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना.
– आंखों के पिछले हिस्से में दर्द होना, जो आंखों को दबाने या हिलाने से और बढ़ जाता है.
– बहुत ज्यादा कमजोरी लगना, भूख न लगना और जी मितलाना और मुंह का स्वाद खराब होना.
– गले में हल्का-सा दर्द होना.
– शरीर खासकर चेहरे, गर्दन और छाती पर लाल-गुलाबी रंग के रैशेज होना.
– क्लासिकल साधारण डेंगू बुखार करीब 5 से 7 दिन तक रहता है और मरीज ठीक हो जाता है. ज्यादातर मामलों में इसी किस्म का डेंगू बुखार होता है.

 कैसे करें बचाव

  1. कूलर के पानी को जरूर साफ रखें.
  2. रात में पूरी बाहों के कपड़े पहनकर सोयें
  3. या फिर मच्छरदानी का इस्तेमाल करें
  4. गमलों के पानी का जरूर ध्यान रखें

अवश्य पढ़ेंः स्ट्रोक की चपेट में युवा वर्ग, 90 दिनों में कर सकते हैं इलाज

आपकी राय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *