Delhi Top News Politics

वीएचपी की बैठक के लिए दो दिन राजघाट बंद रहाः गांधीवादी

नई दिल्लीः गांधी शांति प्रतिष्ठान, गांधी स्मारक निधि समेत कई गांधीवादी प्रतिष्ठानों ने केंद्र सरकार पर दो दिन तक राजधानी दिल्ली स्थित राजघाट को बंद रखने का आरोप लगाया है. शुक्रवार (29 जून) को गांधीवादियों ने राजघाट के बाहर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन भी किया.

कारण
‘द टेलीग्राफ’ से बातचीत करते हुए गांधी पीस फाउंडेशन के अध्यक्ष कुमार प्रशांत ने बतलाया कि जब 24 जून को उन्होंने राजघाट अथॉरिटी से जुङे कर्मचारियों से संपर्क किया तो उनका कहना था कि सुरक्षा के मद्देनज़र राजघाट को बंद रखा गया है. लेकिन फाउंडडेशन की तरफ से आरोप लगाया गया है कि दरअसल 24 और 25 जून को राजघाट के ठीक सामने स्थित गांधी स्मृति व दर्शन समिति परिसर में विश्व हिंदू परिषद की बैठक चल रही थी इसलिए राजघाट पर ताला जङ दिया गया.

राजघाट समाधि कमेटी ने दी सफाईः
राजघाट समाधि कमेटी के सचिव विनोद कुमार ने इन आरोपों  को खारिज कपते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस एवं अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा दी गई सुरक्षा चेतावनी के कारण राजघाट को आम जनता के लिए बंद रखा गया है. उनका कहना है कि 2015 में जब यूएस प्रेज़ीडेंट बराक ओबामा यहां आए थे तो उस वक्त भी सुरक्षा के लिहाज से राष्ट्रपति के दौरे से एक दिन पहले पूरे दिन के लिए राजघाट को आम जनता के लिए बंद रखा गया था. कमेटी की तरफ से से साफ किया गया है कि 24-25 जून को राजघाट के बंद होने से गांधी दर्शन परिसर में वीएचपी बैठक से कोई संबंध नहीं है.

अवश्य पढ़ेंः दिल्लीः पूर्ण राज्य की मांग के लिए 1 जूलाई से शुरू होगा ‘आप’ का राजनीतिक अभियान

आपकी राय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *